शंकरा रे शंकरा | तानाजी | मेहुल व्यास लिरिक्स इन हिन्दी

 

shankara re shankara lyrics daily creation
 
लिरिक्स:-
 
डम डम डम डम डम डम डमक
डम डम डम डम डम डम डमक
शंकरा
शंकरा रे शंकरा रे
शंकरा रे शंकरा
डम डम डम डम डम डम डमक
डम डम डम डम डम डम डमक
शंकरा रे शंकरा रे
शंकरा रे शंकरा
शंकरा रे शंकरा रे
शंकरा रे शंकरा
बूझ बूझ बूझ धर पकड़
बूझ बूझ पकड़ पकड़ पकड़
शंकरा रे शंकरा रे
शंकरा रे शंकरा
चाँद चतुरमय खोपड़ी में
रक्त का दिया जला
चाँद चतुरमय खोपड़ी में
रक्त का दिया जला
डम डम डम डम डम डम डमक
डम डम डम डम डम डम डमक
डम डम डम डम डम डम
फूस बीती चिंगारी है
अकड़ मेरी मतवाली है
नाच धन तलवारें हैं
बोली में अंगारे हैं
लोमड़ी की खाल लिए
शेरों की चाल चला
नौटंकी खेल से
डोली चूल्हा जला
बूझ बूझ बूझ धर पकड़
बूझ बूझ पकड़ पकड़ पकड़
दिल के पट खोल रे
स्वामी तेरा आया रे
पाँव में जुंग लिए
नौटंकी लाया रे
ऊंची ये दीवारें
कूदने को आया रे
बूझ बूझ बूझ धर पकड़
बूझ बूझ पकड़ पकड़ पकड़
शंकरा रे शंकरा रे
शंकरा रे शंकरा
शंकरा रे शंकरा रे
शंकरा रे शंकरा
चाँद चतुरमय खोपड़ी में
रक्त का दिया जला
चाँद चतुरमय खोपड़ी में
रक्त का दिया जला
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *